11% Off

308.00 277.00

In Stock

You Save 30 ( 10% )

Compare
Category:

Description

मुक्ता पंचामृत रस के फायदे और उपयोग:-

यह एक अत्यन्त गुणकारी, विभिन्न रोगों और विकारों को दूर करने वाला सौम्य,निरापद और लाभकारी योग है ।
1- इसके सेवन से बच्चे सूखा रोग (Rickets)से पीड़ित नहीं हो पाते और पीड़ित हों तो रोग मुक्त और स्वस्थ हो जाते हैं ।
2- यह योग जीर्ण ज्वर (पुराना बुखार), राजयक्ष्मा, क्षय वाली खांसी,श्वासकास, गुल्म,जीर्णअतिसार, संग्रहणी,रक्त पित्त,अर्श,प्रमेह,आंतों की कमज़ोरी, हृदय की दुर्बलता, पित्त प्रकोप जन्य रोग में लाभकारी है।
3- यह योग रक्त का पतलापन,प्रदर रोग,पाण्डु, कामला और हलीमक जैसे रोगों की चिकित्सा में लाभकारी सिद्ध होता है।
4- इसके साथ चौथाई रत्ती स्वर्ण भस्म मिला कर सेवन करने से विशेष और शीघ्र लाभ होता है ।
5- इस योग के सेवन से शरीर में कैल्शियम की पूर्ति होती है कैल्शियम की कमी से होने वाले रोगों से बचाव होता है और यदि इन रोगों में से कोई रोग हो तो इस प्रयोग से दूर हो जाता है।
6- यह पित्त प्रकोप का शमन कर पित्तजन्य रोगों को दूर करता है।
7- यह योग शीतवीर्य और मूत्रल है। अतः पेशाब की रुकावट और जलन दूर करता है ।
8- जो व्यक्ति शरीर में जलन, आंखों में,पेशाब और पेट में जलन,तीव्र प्यास, मुंह सूखना, शरीर की गरम तासीर होना, गर्मी में कष्ट होना आदि व्याधि से पीड़ित हों, उन्हें मुक्ता पंचामृत रस का सेवन अवश्य करना चाहिए ।
9- जिन महिलाओं को रक्त प्रदर हो, अत्यार्तव (Menorrhagia)के कारण अधिक मात्रा में रक्तस्राव होता हो उन्हें इस योग का उपयोग गुलकन्द के साथ करना चाहिए और सौ बार पानी से धोए हुए घृत का पिचु(रुई का फाहा) सोते समय योनि के अन्दर रखना चाहिए और सुबह उठते समय यह पिचु निकाल कर फेंक देना चाहिए ।
10- इस रसायन के सेवन से और भी कई लाभ होते हैं। यह अस्थिक्षय, मांस क्षय,सिर दर्द, परिणाम शूल जैसे रोगों में इस योग का उपयोग हितकारी होता है ।
11- क्रोधी स्वभाव, अति जागरण, अति मानसिक श्रम,अति दौड़धूप और मेहनत,उष्ण पदार्थों के अति सेवन,तेज धूप में अधिक समय तक रहने आदि कारणों से मस्तिष्क में कष्ट व तनाव होता है। इससे मस्तिष्क को त्रास होता है,मस्तिष्क कमज़ोर होता है जिससे मामूली बात पर व्यक्ति को क्रोध आ जाता है, विचार करने की क्षमता और स्मरण शक्ति कम हो जाती है,शरीर में शिथिलता और कमज़ोरी बनी रहती है,तबीयत गिरी गिरी सी रहती है, नींद उड़ जाती है और बात बात पर व्यक्ति झुंझला उठता है । आयुर्वेदिक योग मुक्ता पंचामृत रस के नियमित सेवन से ये व्याधियां दूर होती हैं। यह योग इसी नाम से बना बनाया बाज़ार में मिलता है।

Additional information

Weight 0.250 kg

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Baidyanath Mukta Panchamrit Ras ( 10 Tab )”

Your email address will not be published. Required fields are marked *