10% Off

925.00 833.00

In Stock

You Save 92 ( 10% )

Compare
Category:

Description

Sushakti Prash ( Special ) Benefits:-

1. कैंसर से रोकथाम

कैंसर जैसी घातक बीमारी के विरूद्ध केसर के फायदे देखे गए हैं। वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में मौजूद क्रोसिन, कोलोरेक्टल कैंसर कोशिकाओं को को बढ़ने से रोक सकता है। इसके अलावा यह प्रोस्टेट कैंसर और स्किन कैंसर पर भी सकारात्मक प्रभाव छोड़ सकता है

क्रोसिन के अलावा केसर में कैरोटेनॉयड्स नामक तत्व भी पाया जाता है, जिसमें एंटीकैंसर गुण देखे गए हैं। एक अन्य वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में मौजूद क्रोसेटिनिक एसिड में अग्नाशय के कैंसर (Pancreatic Cancer) को रोकने का काम कर सकता है

2. गठिया का इलाज

अर्थराइटिस जैसे हड्डी रोगों के लिए केसर खाने के फायदे देखे जा सकते हैं। केसर क्रोसेटिन (Crocetin) नामक एक खास तत्व से समृद्ध होता है, जो गठिया के इलाज में मदद कर सकता है

3. आंखों की रोशनी में सुधार

केसर के फायदे में आंखों की रोशनी में सुधार होना भी शामिल है। केसर एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है, जो एएमडी (बढ़ती उम्र से जुड़ा नेत्र रोग) पर प्रभावी असर दिखा सकता है। इसके अलावा इसमें मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी गुण रेटिना स्ट्रेस से छुटकारा दिलाने का काम भी कर सकते हैं सिडनी विश्वविद्यालय के एक शोध के अनुसार, बुजुर्गों में दृष्टि में सुधार के लिए केसर प्रभावी पाया गया है। परीक्षण में देखा गया कि केसर की गोलियां लेने के बाद मरीजों की दृष्टि में सुधार हुआ। शोध में यह भी पता चलता है कि रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा (Retinitis pigmentosa) जैसे अनुवांशिक नेत्र रोग के इलाज में भी केसर सक्षम है, जो युवाओ में स्थायी अंधापन का कारण बनता है

4. अनिद्रा

केसर के गुण में अनिद्रा से छुटकारा भी शामिल है। यह युवाओं में अवसाद( Depression) को कम कर सकता है, जिससे एक अच्छी नींद लेने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा यह क्लिनिकल डिप्रेशन जैसी मानसिक स्थित पर भी सकारात्मक प्रभाव छोड़ सकता हैएक वज्ञानिक शोध के अनुसार केसर में मौजूद क्रोसीन नींद को बढ़ावा देने का काम कर सकता है

5. मस्तिष्क स्वास्थ्य

मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए भी केसर खाने के फायदे देखे जा सकते हैं। वैज्ञानिक शोध के अनुसार एक दिन में 30 मिलीग्राम केसर का सेवन करने से अल्जाइमर के रोगियों की स्थिति को सुधारा जा सकता है। केसर में मौजूद दो खास तत्व क्रोसिन और एथेनॉल से प्राप्त अर्क (extract) में एंटीडिप्रेसेंट गुण देखे गए हैं, जो अवसाद को कम करने का काम कर सकते हैं। इसके अलावा केसर सिजोफ्रेनिया (मानसिक विकार) के रोगियों पर भी सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है एक अध्ययन सेरेब्रल इस्किमिया पर भी केसर का अर्क एक सुरक्षात्मक भूमिका दिखा सकता है  एक अन्य शोध बताता है कि केसर स्मरण शक्ति को बढ़ाने का काम भी कर सकता है

6. अस्थमा का इलाज

सांस संबंधी समस्याओं के लिए केसर का उपयोग प्राचीन काल से किया जा रहा है। पारंपरिक चिकित्सा में केसर के उपयोग का उल्लेख भी मिलता है  लेकिन इस पर अभी शोध सीमित हैं। इसलिए, अधिक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से जरूर परामर्श करें।

7. पाचन को बढ़ावा

केसर अपने एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों के माध्यम से पाचन को बढ़ावा देने और पाचन विकारों के इलाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है  यह पेप्टिक अल्सर और अल्सरेटिव कोलाइटिस के इलाज में भी फायदा दिखा सकता है।

8. मासिक धर्म के लक्षणों से राहत

मासिक धर्म के लक्षणों से राहत देने में केसर की भूमिका देखी जा सकती है। केसर युक्त एक ईरानी हर्बल दवा प्राइमेरी डिसमेनोरिया (माहवारी के दौरान पेट में होने वाली ऐंठन) से राहत देने में कारगर पाई गई थी  हालांकि अभी मासिक धर्म के लक्षणों और केसर के संबंध पर अभी और शोध की आवश्यकता है।

9. हृदय स्वास्थ्य

केसर के फायदे में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी शामिल है, जो आर्टरी और रक्त वाहिकाओं (Blood Vessels) को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। केसर के एंटीइंफ्लेमेटरी गुण हृदय पर अपना सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। केसर राइबोफ्लेविन का एक बड़ा स्त्रोत माना जाता है, जो हृदय के लिए महत्वपूर्ण विटामिन के रूप में काम करता है।इतना ही नहीं इसमें मौजूद क्रोसेटिन रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करते हैं और एथेरोस्क्लेरोसिस की गंभीरता को कम करते हैं । केसर रक्तचाप को भी कम कर सकता है, जो दिल के दौरे का कारण बनता है

10. लिवर स्वास्थ्य

एक अध्ययन के अनुसार कैंसर के साथ लीवर मेटास्टेसिस से पीड़ित रोगियों पर केसर अपना सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है  लीवर के खराब होने पर केसर उसे सुरक्षा प्रदान कर सकता है। यह लीवर विषाक्तता (टॉक्सिसिटी) के उपचार में भी कारगर साबित हो सकता है

11. कामोत्तेजक के रूप में

केसर इंसानों में यौन जीवन में सुधार कर सकता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार केसर पुरुष प्रजनन प्रणाली के लिए फायदेमंद हो सकता है। शोध में बताया गया है कि केसर का अर्क और इसमें मौजूद क्रोसीन कामोत्तेजना को बढ़ाने का काम कर सकते हैं केसर वीर्य के निर्माण और पुरूष बांझपन जैसी स्थितियों पर प्रभावी पाया गया है। हालांकि, यह शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि नहीं करता है, लेकिन पुरूष बांझपन के उपचार में मदद कर सकता है केसर में क्रोसिन भी पाया जाता है, जो निकोटीन के उपयोग से पुरुष प्रजनन प्रणाली को होने वाले नुकसान को उलट सकता है

शिलाजीत के फायदे

बुढापा विरोधी घटक

शिलाजीत(Shilajit) फुलविक एसिड युक्त तेज़ एन्टी ऑक्सीडेंट और एन्टी इंफ्लेमेटरी है। यह मुक्त कणों से हमारी रक्षा करके हमारे सेल्स को नुकसान से बचाता है।

एनीमिया में सहायता

शिलाजीत आयरन और खून की कमी से होने वाले लक्षणों जैसे अनियमित हृदय-गति, सिर दर्द, हाथ-पैर ठंडे होना, कमजोरी और थकान से लड़ने में भी मददगार है।

दिल के स्वस्थ्य को सुधारे

तथ्यों से पता चलता है कि शिलाजीत(Shilajit) दिल मे खून के दौरे को सुधारता है और स्वस्थ तरीके से खून को पंप करने में मदद करता है।

टेस्टेरॉन के स्तर को बढ़ावा

जो लोग नियमित रूप से शिकाजीत(Shilajit) का सेवन करते हैं उनमें टेस्टेरॉन का स्तर उच्च होता है। यह अच्छी मनोदशा का प्रतीक है और सोचने समझने की क्षमता को बढ़ाता है। पुरुषों में टेस्टेरॉन का उच्च स्तर मांसपेशियों के टिश्यू की रक्षा करता है और शरीर से चर्बी को कम करता है।

एन्टी स्ट्रेस घटक

जो लोग डिप्रेशन से पीड़ित होते हैं, उनका जिंक का स्तर कम होता है। शिलाजीत(Shilajit) में पाया जाने वाला प्राकृतिक जिंक हमारे शरीर के 300 से भी ज्यादा एंजायमों के लिए जरूरी होता है।

यादाश्त सुधारे

टेस्टेरॉन का स्तर आपके सोचने के तरीके के लिए महत्वपूर्ण योगदान देता है। शिलाजीत लेना इसलिए भी फायदेमंद है क्योंकि इसमें मौजूद फुलविक एसिड दिमागी स्वास्थ्य और यादाश्त के काम को बढ़ावा देता है।

प्रदर्शन के स्तर को बढ़ावा

शरीर मे ऊर्जा पैदा करने में सुधार लाने के लिए शिलाजीत(Shilajit) सेलुलर स्तर पर काम करता है। इसका उपयोग करने वाले व्यक्ति खुद को हमेशा ताज़ा महसूस करते हैं और जल्दी ठीक भी होते हैं।

Additional information

Weight 1.00 kg

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Sushakti Prash ( Special ) ( 1kg )”

Your email address will not be published. Required fields are marked *